Tuesday, November 17, 2009

सावन की बूदों की रिमझिम झंकार
सुबह की ओस का चंचल स्पर्श
कच्ची अमिया की मीठी खटास
पुरवईया के झोंकों की भीनी सुगंध
यादों के बवंडर में टूटे पत्तों से
वो खूबसूरत पल, जैसे
पतझड़ के आँगन में ज़िन्दगी
उलाहना देने आई हो...

2 comments:

  1. Kabhi kabhi baarish baha le jaaya karti hai
    Thode se khwaab, thodi si ummeed, thodi si zindagi
    Aur bhi bahut kuchh

    btw, your thoughts, as always, are beautiful.. keep penning them down..

    ReplyDelete
  2. @Divesh: So are yours...keep penning them down:).

    ReplyDelete