Tuesday, April 2, 2013

वसुधा

कभी-कभी जी चाहता है कि
चली जाऊँ सूरज के खिलाफ़
तोड़ दूँ रिश्ता चाँद से
उलट-पलट कर दूँ दिशाएँ 
चीड़ दूँ हवायें
समेट लूँ अपना आँचल

ये, जो
खींचते हैं मेरे लिए लक्ष्मण-रेखाएं
बनाते हैं मेरे लिए आदर्शों की फ़ेहरिस्त
और तय करते हैं मेरे अस्तित्व की परिभाषा

कभी-कभी जी चाहता है कि
सोख लूँ सारे सागर
जला दूँ अनेक ज्वालामुखी
और तोड़ लूं सारे तारे
सिर्फ़ अपने लिए

ले आती प्रलय मैं आज ही
अगर मैं वसुधा न होती

---

Vasudha

Kabhi-kabhi ji chaahta hai ki
Chali jaaun sooraj ke khilaaf
Tod doon rishtaa chaand se
Ulat-palat kar doon dishaayein
Cheed doon hawaayein
Samet loon apna aanchal

Ye jo
Kheenchte hain mere liye lakshman-rekhaayein
Banaate hain mere liye aadarshon ki fehrist
Aur tay karte hain mere astitva ki paribhaashaa

Kabhi-kabhi ji chaahta hai ki
Sokh loon saare saagar
Jalaa doon anek jwaalaamukhi
Tod loon saare taare
Sirf apne liye

Le aati pralay main aaj hi
Agar main vasudha na hoti


Sunday, January 27, 2013

खिड़की/Khidki

इस  कमरे  में  एक खिड़की है
जो बाहर की ऒर खुलती है
यहाँ
दूर तक खुला आसमान  दिखता है
दिन धीमी धूप छिटकाता है
सावन का पानी छूने आ जाता है

इस कमरे में एक खिड़की है
जो अन्दर की तरफ खुलती है
यहाँ
एक चाय के कप ने
कई निशान छोड़े हैं
हथेलियों की गर्माहट ने
कई शामों को सर्द होने से रोका है
उनींदी, अलसाई आँखों ने
कई सुबहों को मुस्कुरा कर उठते देखा है

इन दो खिडकियों के बीच
एक गहरा संनाटा है
यहाँ
कुछ गीले सवाल अक्सर
गूँज कर रह जाते हैं
कुछ रूखे जवाब अक्सर
तुम्हारे पास से घूम आते हैं

---

Iss kamre mein ek khidki hai
Jo baahar ki taraf khulti hai
Yahaan
Dur tak khulaa aasmaan dikhtaa hai
Din dheemi dhoop chhitkaataa hai
Saawan ka paani chhoone aa jaata hai

Iss kamre mein ek khidki hai
Jo andar ki taraf khulti hai
Yahaan
Ek chaai ke cup ne
Kaii nishaan chhode hain
Hatheliyon ki garmaahat ne
Kaii shaamon ko sard hone se roka hai
Uneendi, alsaayi aankhon ne
Kaii subahon ko muskuraa kar uthte dekha hai

Inn do khidkiyon ke beech
Ek gehra sannaataa hai
Yahaan
Kuchh geele sawaal aksar
Goonj ke reh jaate hain
Kuchh rookhe jawaab aksar
Tumhaare paas se ghoom aate hain