Tuesday, April 2, 2013

वसुधा

कभी-कभी जी चाहता है कि
चली जाऊँ सूरज के खिलाफ़
तोड़ दूँ रिश्ता चाँद से
उलट-पलट कर दूँ दिशाएँ 
चीड़ दूँ हवायें
समेट लूँ अपना आँचल

ये, जो
खींचते हैं मेरे लिए लक्ष्मण-रेखाएं
बनाते हैं मेरे लिए आदर्शों की फ़ेहरिस्त
और तय करते हैं मेरे अस्तित्व की परिभाषा

कभी-कभी जी चाहता है कि
सोख लूँ सारे सागर
जला दूँ अनेक ज्वालामुखी
और तोड़ लूं सारे तारे
सिर्फ़ अपने लिए

ले आती प्रलय मैं आज ही
अगर मैं वसुधा न होती

---

Vasudha

Kabhi-kabhi ji chaahta hai ki
Chali jaaun sooraj ke khilaaf
Tod doon rishtaa chaand se
Ulat-palat kar doon dishaayein
Cheed doon hawaayein
Samet loon apna aanchal

Ye jo
Kheenchte hain mere liye lakshman-rekhaayein
Banaate hain mere liye aadarshon ki fehrist
Aur tay karte hain mere astitva ki paribhaashaa

Kabhi-kabhi ji chaahta hai ki
Sokh loon saare saagar
Jalaa doon anek jwaalaamukhi
Tod loon saare taare
Sirf apne liye

Le aati pralay main aaj hi
Agar main vasudha na hoti