Sunday, July 13, 2014

प्यार ही तो है

वरना क्या है
जो मैं
सुबहों से होती हुई
शामों में गुज़रती हूँ
पर
तुमसे नाराज़ होना
भूल जाती हूँ ?